Madhya Pradesh School Reopen From July 26; Parents and Operator On One Day Class In a Week | पेरेंट्स-स्कूल संचालक सप्ताह में 1 दिन क्लास के पक्ष में नहीं; बोले- पढ़ाई कुछ होगी नहीं, फीस का बोझ बढ़ेगा, यह पिछले आदेश की काॅपी

0

[ad_1]

  • #
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh School Reopen From July 26; Parents And Operator On One Day Class In A Week

भोपाल30 मिनट पहलेलेखक: अनूप दुबे

  • #
  • स्कूल ड्रेस से लेकर ट्रांसपोर्ट तक का खर्च बढ़ जाएगा

मध्य प्रदेश में सरकारी # प्राइवेट स्कूल में 11वीं-12वीं की क्लास एक साल बाद 26 जुलाई से सप्ताह में एक दिन खुलने जा रही #। आदेश जारी होने के बाद अब पेरेंट्स से लेकर स्कूल संचालक तक विरोध में आ गए #। स# का मानना है, सप्ताह में एक दिन क्लास होने से पढ़ाई तो होगी नहीं, उल्टा पेरेंट्स पर फीस का बोझ बढ़ जाएगा।

स्कूल ड्रेस से लेकर ट्रांसपोर्ट तक का अतिरिक्त खर्च बढ़ जाएगा। क्लास में छात्र पेरेंट्स की अनुमति के बाद ही शामिल हो सकें। शासन का यह आदेश पिछले आदेश की काॅपी है। यही कारण है, अब इन्हीं सब बातों को लेकर निजी स्कूल संचालकों का अनऐडेड एसोसिएशन # इसे लेकर जल्द ही मीटिंग करने जा रहा है। उसमें नई रणनीति तैयार की जाएगी। एसोसिएशन इसे शासन को देगा। उसके बाद ही कुछ हो पाएगा। ऐसे में अब सोमवार से स्कूल खुल तो जरूर जाएंगे, लेकिन क्लास लग पाएगी या नहीं स्थिति स्पष्ट नहीं हो पा रही।

स्कूल खोलने के पक्ष में

नहेरू नगर निवासी पुनीत अग्रवाल का कहना है, सप्ताह में एक दिन स्कूल खुलें या फिर महीने भर खुलें, फीस तो पूरी देना होगा। बच्चे की यूनिफाॅर्म से लेकर ट्रांसपोर्ट तक का खर्च बढ़ जाएगा। ऐसे में सिर्फ सप्ताह में एक दिन स्कूल भेजने से बच्चा कितना पढ़ पाएगा। सरकार का यह निर्णय गलत है। अ# तो वैसे # हम स्कूल खोले जाने के पक्ष में नहीं #। बच्चों को वैक्सीन लगी नहीं है। अगर वह बाहर जाएगा, तो बीमार होगा। बच्चे एक-दूसरे के संपर्क में जरूर आएंगे, इसलिए अ# स्कूल नहीं खुलना चाहिए।

स्कूल खुलें, लेकिन सख्ती जरूरी

चूनाभट्‌टी में रहने वाली ममता मिश्रा का कहना है कि स्कूल खुलना बच्चों # पेरेंट्स दोनों के लिए अच्छा है। आउटडोर एक्टिविटी से बच्चों का शारीरिक # मानसिक विकास होता है, लेकिन सिर्फ एक दिन स्कूल लगना विकल्प नहीं है। स# तरह की सावधानियों के साथ ज्यादा दिन के लिए स्कूल खुलना चाहिए। हां, फीस का मुद्दा सबसे अहम है। सरकार को इसके बारे में कुछ सोचना होगा, ताकि स्कूल खुलें, तो बच्चे पढ़ सके # पेरेंट्स पर आर्थिक बोझ न बने।

स्कूल खुलने का स्वागत, लेकिन ज्यादा दिन खुलना जरूरी

अनऐडेड एसोसिएशन के सचिव बाबू थॉमस ने कहा कि हम स्कूल खोलने के सरकार के निर्णय का स्वागत करते #, लेकिन सप्ताह में सिर्फ एक दिन स्कूल खुलने से परेशानी होगी। इसमें बच्चों से फीस से लेकर ट्रांसपोर्ट के मुद्दे को लेकर समस्या आएगी। इसके साथ ही कई मुद्दे #, जिसे लेकर हम बैठक करने जा रहे #। इसके बाद स# निजी स्कूलों की तरफ से स्कूल खुलने को लेकर एक पत्र शासन को देंगे, ताकि स्कूल सप्ताह में कम से कम 3 दिन खुलें।

पिछले आदेश की काॅपी है

26 जुलाई से 11वीं # 12वीं की क्लास खोलने के आदेश पिछले आदेश की काॅपी है। इससे पहले शासन ने पिछले साल सितंबर # फिर दिसंबर में स्कूल शुरू करने की कोशिश की थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। यह स# नियम # गाइड लाइन उस आदेश में # थी। नए आदेश में कुछ खास नहीं है।

स्कूल संचालक- एक दिन से अच्छा तो ऑनलाइन ही सही है

एनी बेसेंट स्कूल के संचालक मोहित यादव ने बताया, ऑर्डर कल ही आए #। ऐसे में स्कूल खोलने को लेकर अ# प्लान नहीं हुआ है। क्लास के हिसाब से 50% बच्चों को बिठाएंगे। यदि कोई बच्चा पहली बेंच पर बैठा है, तो एक छोड़कर तीसरी बेंच पर दूसरे बच्चे की सीट होगी। सरकार का एक दिन स्कूल बुलाने का डिसीजन न बच्चों के हित में है # न ही स्कूल वालों के। इससे अच्छा वह ऑनलाइन ही पड़ लेगा। क्योंकि ऑफलाइन के साथ ऑनलाइल क्लास # चलेंगी, इसलिए टीचर पर दोहरा भार आ जाएगा। पिछली बार लॉकडाउन में जो 50% के साथ खोला था। वह अच्छा निर्णय था। स्कूल बस की बात करें तो उसे संचालित करना अ# संभव नहीं होगा। क्योंकि उसमें # 50% को ही लेकर आना है। ऐसे में 5-10 बच्चों को लेकर आना संभव नहीं है।

पेरेंट्स पर यह पढ़ेगा बोझ

  • अ# सिर्फ ट्यूशन फीस ली जा रही है। क्लास खुलने के बाद ट्यूशन फीस के साथ अन्य तरह की फीस जुड़ जाएंगी। यही नहीं इस बार पिछले की तुलना में करीब 10% का इजाफा कर दिया गया है।
  • यूनिफाॅर्म # लेना होगा। अ# बच्चों की ऑनलाइन क्लास होने के कारण यूनिफॉर्म आदि खरीदनी नहीं पढ़ रही है। क्लास शुरू होने से बच्चा चाहे एक दिन के लिए स्कूल जाए, उसे यूनिफॉर्म लेना जरूरी होगा।
  • घर से स्कूल आने-जाने के लिए ट्रांसपोर्ट की जरूरत होगी। स्कूल से लेकर प्राइवेट स्कूल वाहन संचालक # दो महीने का एडवांस लेते #। ऐसे में अभिभावकों को खुद ही बच्चों को स्कूल छोड़ने # लेने जाना होगा।

इसलिए एक दिन क्लास लगेगी

  • 11वीं # 12वीं क्लास की सप्ताह में दो-दो दिन क्लास रहेगी। एक बार में सिर्फ 50% बच्चों को ही बुलाया जा सकेगा। इस हिसाब से एक बच्चे को सप्ताह में सिर्फ एक ही दिन स्कूल आना होगा।
  • 9वीं # 10वीं के बच्चों को सप्ताह में एक दिन ही आना है। एक दिन में सिर्फ 50% के नियम के कारण एक बच्चा दो सप्ताह में सिर्फ एक ही दिन क्लास अटेंड कर पाएगा।

यह # नियम

  • बच्चे पेरेंट्स के अनुमति पत्र स्कूल में जमा करने के बाद ही क्लास अटेंड कर पाएंगे।
  • सोशल डिस्टेसिंग के पालन के साथ ही सैनिटाइजर की व्यवस्था # कराना जरूरी है।
  • बसों में # सिर्फ 50% क्षमता में ही बच्चों को लाया ले जाया जा सकेगा।
  • बच्चों के बीमार होने पर उसके इलाज से लेकर सूचना देने तक की जिम्मेदारी स्कूल प्रबंधन की।

# # # ##

[ad_2]

Source link